मध्यप्रदेश के मंदसौर में दोहराया गया ‘निर्भया कांड’, 7 साल के बच्ची के साथ हैवानियत

0
329

मध्य प्रदेश के मंदसौर में ‘निर्भया कांड’ जैसी ही एक हैवानियत वाली घटना सामने आई है। दरअसल एक 7 साल की बच्ची को किडनैप कर उसके साथ दुष्कर्म किया गया हैं तथा उसको पीटा गया हैं| उस बच्ची के शरीर पर कई जगह गंभीर चोट के भी निशान हैं। उसका प्राइवेट पार्ट भी लहुलूहान है। बच्ची की मौजूदा हालत को देखते हुए डॉक्टरों को तत्काल उस बच्ची की आंत काटनी पड़ी और बाहर की तरफ एक रास्ता बनाकर उसके प्राइवेट पार्ट को ऑपरेट करना पड़ा। फिलहाल बच्ची इंदौर के एमवाय अस्पताल गंभीर हालत में भर्ती है|

बता दे, कि यह घटना बीते मंगलवार की है। मंगलवार दोपहर 12 बजे के लगभग किसी व्यक्ति ने फोन कर पुलिस को बताया कि मंदसौर बस स्टैंड के पास कांटेदार झाड़ियों में एक बच्ची बेहोशी की हालत में पड़ी हुई है और उसके कपड़े फटे हुए हैं, साथ ही उसका पूरा बदन खून से भीगा हुआ है। सूचना मिलने पर तुरंत मौके पर पुलिस पहुंची और बच्ची को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन बच्ची की हालत गंभीर होने की वजह से उसे तुरंत इंदौर के एमवाय अस्पताल रेफर कर दिया गया।

गौरतलब हैं कि पुलिस ने सीसीटीवी के जरिए आरोपी की पहचान कर उसे बुधवार को गिरफ्तार कर लिया हैं। आरोपी का नाम इमरान बताया जा रहा है जो कि नशे का एडिक्ट है। वहीं, इस गंभीर घटना के बाद प्रदेश के लोगों में जबरदस्त गुस्सा है। इस घटना के विरोध में गुरुवार को मंदसौर बंद रहा। साथ ही लोगों ने अपनी-अपनी दुकानों को भी बंद रखा और सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करते हुए आरोपी को फांसी की सजा की मांग करते दिखे। बता दे, कि बलत्कारी इरफान को 2 जुलाई तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

खबरों के मुताबिक, आरोपी मिठाई देने का लालच देकर बच्ची को अपने साथ ले गया था और झाड़ियों में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। उसके बाद वो बच्ची को वहीं लहुलूहान हालत में छोड़कर वहां से भाग गया। प्रारम्भिक जांच में पुलिस को बच्ची के स्कूल बैग से शराब की बोतलें भी मिली थीं।

 बता दे, कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी अस्पताल में फोन कर डॉक्टरों से बात की और बच्ची का हालचाल जाना। उन्होंने कहा कि ‘पीड़ित बच्ची की हालत में सुधार आ रहा है। इस केस की सुनवाई जल्द होनी चाहिए और आरोपी को उसके द्वारा किए गए गंभीर अपराध के लिए फांसी दी जानी चाहिए।

Facebook Comments