बड़ा बयान: 2019 लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा: अमित शाह

0
194

अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण को लेकर लगाई जा रही कायसों पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अब विराम लगा दिया है। दरअसल हैदराबाद में पार्टी नेताओं के साथ हुई एक बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। गौरतलब हैं कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के मंदिर निर्माण वाले दावे से निश्चित तौर पर अयोध्या विवाद को लेकर सियासी जगत में एक बार राजनीति फिर से गर्म हो जाएगी, क्योंकि भाजपा के कई बड़े नेता इस मुद्दे पर कोई भी बड़ा बयान देने से अब तक कतरा रहे थे।

बता दे, कि हैदराबाद में शुक्रवार को पार्टी नेताओं के साथ हुई एक बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ‘चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर उचित कदम उठा लिए जाएंगे।‘ तो वही भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य पी. शेखरजी ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में बताया कि बैठक के दौरान अमित शाह ने कहा कि ‘मौजूदा घटनाक्रम को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।‘ बताते चले कि अपने एक दिवसीय दौरे पर हैदराबाद पहुंचे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ये भी कहा कि समय से पहले चुनाव कराने की कोई संभावना नहीं है।

गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी के कई दिग्गज नेता समय-समय पर अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर बयान देते रहे हैं, लेकिन अब तक पार्टी का रूख साफ नहीं हो पाया है। अभी हाल ही में पूर्व सांसद और राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास दास वेदांती ने कहा था कि भाजपा अगर राम मंदिर का निर्माण नहीं कराती है तो वो रसातल में चली जाएगी। उन्होंने आगे कहा था कि ‘उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के नाम पर ही पूरे राज्य में घूम-घूमकर वोट मांगा था और उसी का प्रभाव था कि वह रिकॉर्ड मतों से चुनाव जीत पाए। अब अगर भाजपा राम मंदिर का निर्माण नहीं कराती है तो निश्चित ही वो रसातल में चली जाएगी।

बता दे, कि हाल ही में रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के जन्मोत्सव में आयोजित संत सम्मेलन में पहुंचे सीएम योगी ने कहा था कि भगवान राम मर्यादा के प्रतीक हैंसंत मर्यादा के प्रतिनिधि। उन्होने आगे कहा था कि सभी समस्याओं के समाधान का सम्यक प्रयास मर्यादा में रहकर करना होगा। मुख्यमंत्री योगी ने संतो को समझाते हुए कहा था कि हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र हैं। न्यायपालिकाविधायिकाकार्यपालिका की अपनी भूमिका होती है। हमें उन मर्यादाओं को भी ध्यान में रखना होगा।

Facebook Comments