भाजपा सांसदों ने की सरकार से मांग, राष्ट्रीय महिला आयोग की तर्ज पर ‘पुरुष आयोग’ हो गठित…!

0
184

नई दिल्ली: भाजपा के दो सांसदों ने राष्ट्रीय महिला आयोग की तर्ज पर सरकार से पुरुष आयोग गठित करने की मांग की है। यह मांग यूपी के घोसी से भाजपा सांसद हरिनारायण राजभर और हरदोई से सांसद अंशुल वर्मा ने की है। दोनों भाजपा सांसदों का कहना है कि ‘वे ‘पुरुष आयोग’ के गठन एवं लोगों का समर्थन जुटाने के लिए 23 सितंबर को नई दिल्ली में एक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। इससे पहले भी दोनों ही सांसदो ने 3 अगस्त को संसद सत्र के दौरान पुरुष आयोग बनाने की मांग कर चुके हैं।

भारतीय जनता पार्टी के सांसद अंशुल वर्मा के मुताबिक ‘वे इस मसले को संसद की स्थायी समिति के सामने उठा चुके हैं। उनका कहना है कि दहेज संबंधी कानून 498ए का महिलाएं दुरुपयोग कर रही हैं और इस कानून में संशोधन की जरुरत है। उनके अनुसार साल 1998 से 2015 के बीच इस कानून के तहत 27 लाख से ज्यादा लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। सांसद अंशुल वर्मा आगे कहते हैं कि इस तरह के कानूनों के दुरुपयोग से बचने के लिए पुरुषों के पास भी बचाव के लिए एक संस्था होनी चाहिए।

तो वही भाजपा सांसद राजभर भी इसके पक्ष में हैं। उनका भी यही कहना है कि ‘पुरुष भी पत्नियों की प्रताड़ना के शिकार होते हैं और इस तरह के मामलों से अदालतें भरी हुई हैं। वो कहते हैं कि महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए कानून और मंच दोनों मौजूद हैं, लेकिन अभी तक पुरुषों की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा कि ‘उनका यह मतलब नहीं है कि हर एक महिला या हर एक पुरुष गलत होता है। लेकिन दोनों ही लिंगों में ऐसे लोग हैं, जो एक-दूसरे पर अत्याचार करते हैं। राजभर ने आगे कहा कि उन्होंने शनिवार को संसद की एक स्थायी समिति के समक्ष इस मुद्दे को रखा है।

तो वहीं दूसरी ओर दोनों ही भाजपा सांसदों की मांगों पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा का कहना है कि ‘देश में हर किसी को अपनी मांग रखने का अधिकार है, लेकिन मुझे नहीं लगता कि इस तरह के आयोग के गठन की कोई आवश्यकता है। इस मुद्दे पर एनजीओ सेव इंडिया फैमिली फाउंडेशन यानी एसआईएफएफ के फाउंडर और नागपुर के रहने वाले राजेश वखरिया का कहना है कि हमारा समाज पितृसत्तात्मक है, लेकिन पतियों और उनके अधिकारों को बचाने के लिए कोई कानून नहीं है। दहेज विरोधी कानून के नाम पर उन लोगों का शोषण होता है।

राजेश को तकरीबन 160 पुरुषों का समर्थन मिला है, जिन्होंने यूपी के वाराणसी में आकर गंगा किनारे अपनी तलाकशुदा जिंदा पत्नियों का पिंडदान किया और श्राद्ध मनाया। इस दौरान पुरुषों ने एक खास तांत्रिक पूजा भी कराई, ताकि उन्हें बुरी यादों से छुटकारा मिल सके। राजेश के मुताबिक नैशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक भारत में हर 6.5 मिनट में एक पति अपनी पत्नी से मानसिक प्रताड़ित होकर आत्महत्या करता है।

गौरतलब है कि पिछले साल महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने भी माना था कि उन्हें भी इस तरह की शिकायतें मिल रही हैं, जिसमें पुरुषों ने महिलाओं पर उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। मंत्री मेनका गांधी ने इस बारे में राष्ट्रीय महिला आयोग से ऐसी शिकायतें सुनने के लिए अलग से सेल बनाने का भी सुझाव दिया था। लेकिन राष्ट्रीय महिला आयोग ने यह कहते हुए इस सुझाव पर अमल करने से इंकार कर दिया था कि मंत्रालय की बात मानने के लिए वह बाध्यकारी नहीं है।

Facebook Comments