आगामी लोकसभा चुनाव से पहले ही मायावती ने कांग्रेस से बनाई दूरी, कहा- भाजपा व कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे…!

0
78

उत्तर प्रदेश: बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ 10 सितंबर को कांग्रेस की अगुवाई में होने वाले ‘भारत बंद’ में अन्य दलों के साथ हिस्सा नहीं लिया| लेकिन भारत बंद के एक दिन बाद प्रेस कांफ्रेंस कर पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर केंद्र की भाजपा सरकार को तो घेरा ही कांग्रेस को भी नहीं बख्शा। दरअसल बसपा अध्यक्ष मायावती ने एक साथ कांग्रेस और भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा व कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं। यूपीए सरकार की तरह ही मोदी सरकार में भी भ्रष्टाचार है| केंद्र सरकार पूरी तरह पूंजीपतियों के चंगुल में है|

10 सितंबर को कांग्रेस द्वारा पेट्रोल आर डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ बुलाए गए ‘भारत बंद’ में महागठबंधन में शामिल बसपा शामिल नहीं हुई। गौरतलब हैं कि बसपा अध्यक्ष मायावती के आज के इस बयान का सियासी जगत में अलग निहितार्थ निकाला जा रहा हैं। भारत बंद में कांग्रेस को सपा-रालोद सहित 21 राजनीतिक दलों का साथ मिला था। मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि केंद्र की वर्तमान सरकार अपने उद्योगपति दोस्तों को नाराज नहीं करना चाहती इसलिए पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम नहीं करना चाहती। वर्तमान सरकार पूर्व की यूपीए सरकार की तरह ही वही फैसले ले रही है। जिसके लिए पिछली सरकार की आलोचना हुई थी।

मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार का कहना है कि केंद्र सरकार वह पेट्रोलियम की कीमतों पर काबू नहीं पा सकती| क्योंकि इसके लिए अन्तर्राष्ट्रीय कारण जिम्मेदार हैं। लेकिन बीएसपी उनके इस तर्क से खुश नहीं है| मेरा मानना है कि सरकार अगर चाहे तो महंगाई पर काबू पा सकती है|

उन्होंने केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने भारत की जनता को लाचार बना दिया है। खासकर गरीबों-मजलूमों को महंगाई के कारण भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है। आने वाले लोकसभा के चुनाव में जनता भाजपा को सबक सिखाएगी।

Facebook Comments