पी.चिदंबरम का भाजपा पर पलटवार, कहा- UPA कार्यकाल में हमने जेहादियों को सिखाया सबक

0
162

कश्मीर को लेकर राजनीतिक दलों के बीच शुरू हुई सियासी जंग अब खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। सभी  राजनीतिक दल एक दूसरे पर आरोप मढ़ रहे हैं| आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का कांग्रेस नेता व जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद के बयान को समर्थन ने तो इस सियासी जंग में आग में घी डालने का काम किया है। इसके बाद से जहां केंद्र में काबिज भाजपा कांग्रेस पर हमलावर है, तो वहीं कांग्रेस क्षति नियंत्रण करने में लगी हुई है। कांग्रेस पार्टी अब इस बात की दावा कर रही है कि उसने जम्मू-कश्मीर में जेहादियों का खात्मा किया है।

गौरतलब हैं कि  कश्मीर को लेकर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और फिर कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज के बयान और पुस्तक में विवादित विवरण से हंगामा खड़ा हो गया है। जिसके बाद अब कांग्रेस के वरिष्ट नेता पी.चिदंबरम पार्टी के बचाव में सामने आए हैं। पी.चिदंबरम ने अपने ट्वीट में यह कहा है कि यूपीए के कार्यकाल में सरकार ने जम्मू-कश्मीर में जेहादियों को सबक सिखाया और हिंसा के स्तर को काफी हद तक कम किया था।

गौरतलब हैं की कांग्रेस नेता पी॰चिदंबरम ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए| उन्होंने दूसरे ट्वीट पर यह सवाल किया , इस बात को कौन भूल सकता है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने माओवादी हिंसा में लगभग अपना पूरा नेतृत्व खो दिया था?उन्होने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर लगे आरोपों के जवाब में ट्वीट कर कहा, ‘आरोप है कि जेहादियों और माओवादियों ने राहुल गांधी की सहानुभूति अर्जित की है, ये हास्यात्मक और बेतुका आरोप है। कांग्रेस इन दो समूहों का हमेशा से विरोध करती आई है।’

बता दे, कि कांग्रेस नेता पी॰चिदंबरम का एक के बाद एक कई ट्वीट भाजपा के वारिष्ट नेता और वित्त मंत्री अरुण जेटली के उस ब्लॉग के बाद आया है जिसमें उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए लिखा था कि ‘ये बड़े आश्चर्य की बात है कि उन्हें इस बात से लेना देना नहीं है कि वो किसका साथ दे रहे हैं। जेएनयू और हैदराबाद में भारत विरोधी नारे लगाने वालों से उन्हें खास हमदर्दी है।‘ भाजपा नेता अरुण जेटली ने अपने ब्लॉग में आगे लिखा  कि ‘अगर ऐतिहासिक और वैचारिक रूप से कांग्रेस पार्टी ने इस तरह के संगठनों का विरोध किया होता तो असहाय लोगों के दिलों में राहुल जगह बना पाने में कामयाब हुए होते।

Facebook Comments