कैराना मे क्यों खराब हुई थी EVM मशीन, चुनाव आयोग ने बताई हैरान करने वाली वजह…!

0
195

बीते कई सालो से चुनाव नतीजे आने के बाद से मिले चुनाव नतीजे से कई अंसतुष्ट राजनैतिक दल  चुनाव आयोग पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी कर चुनाव परिणामों को प्रभावित करने की बात उठाते आ रहे हैं| बता दे, कि अभी हाल ही मे हुए कैराना उपचुनाव मे ईवीएम मशीन मे गड़बड़ी का मामला फिर से उठा था| अब उस पर चुनाव आयोग की रिपोर्ट आई हैं|दरअसल चुनाव आयोग की टेक्निकल एक्सपर्ट टीम ने कैराना और भंडारा गोंदिया सहित 10 सीटों पर हुए उपचुनाव में EVM और VVPAT मशीनों मे आई टेक्निकल खराबी की वजह ढूंढ निकाली है| चुनाव आयोग की टेक्निकल एक्सपर्ट टीम रिपोर्ट के मुताबिक, अधिक गर्मी और उमस में ज़्यादा समय तक बगैर समुचित देखभाल के बाहर रहने की वजह से मशीनों में खराबी आई थी|’
गौरतलब हैं कि 28 मई को हुए कई राज्यों मे उपचुनाव में भीषण गर्मी के वजह से यूपी के कैराना और महाराष्ट्र के भंडारा गोंदिया लोकसभा क्षेत्र में मतदान मशीनें बड़ी तादाद में खराब हुई थीं| जिसके बाद से चुनाव आयोग ने तुरंत टेक्निकल एक्सपर्ट की दो टीमों को पड़ताल के काम में लगाया| दोनों टीमों ने अपने रिपोर्ट मे यही कहा हैं कि कड़ी धूप और वातावरण में नमी की वजह से EVM और VVPAT में लगे कॉन्ट्रास्ट सेंसर और लेंथ सेंसर का खराब हो गया|

इसके साथ ही उन्होने अपनी रिपोर्ट मे यह भी बात कही हैं कि जो कागज़ VVPAT यानी वोटर वेरिफिकेशन पेपर ऑडिट ट्रेल वाली मशीन में इस्तेमाल होता है वो नमी ज़्यादा सोखता है| जिस वजह से उसकी नमी मशीन में अंदर पहुंच कर गड़बड़ करती है| नमी के वजह से कागज़ का रोल भी भारी हो जाता है|

बता दे, कि टीम ने अपनी रिपोर्ट एवीएम मशीनें बनाने वाली दोनों अधिकृत कम्पनियों BEL और ECIL को भी भेज दी है| रिपोर्ट में उन्होने यह भी बताया हैं कहां-कैसी बदलाव की जा सकती है, इसके साथ ही भविष्य में विपरीत मौसमी परिस्थितियों में एहतियात बरतते हुए क्या करें क्या नहीं, इस बाबत एक सूची यानी SOP भी तैयार की है|
इस मामले मे चुनाव आयोग का कहना है कि इलेक्शन के बाद 45 दिनों की अवधि तक इलेक्शन पेटिशन के लिहाज से कैराना गोंदिया की मशीनें स्ट्रांग रूम में रखी हैं| इसके बाद जुलाई में इन्हे भी कम्पनी में अतिरिक्त प्रयोजन के लिए भेज दिया जाएगा|

Facebook Comments