Bdy Spcl: वो अभिनेता जिसने हिंदी सिनेमा जगत में देशभक्ति का तड़का लगाया…!

0
177

नई दिल्ली: देशभक्ति से लबरेज़ फ़िल्में बनाने के लिए मशहूर अभिनेता मनोज कुमार यानि हरिकिशन गिरी गोस्वामी आज अपना 81 वां जन्मदिन मना रहे हैं| मनोज कुमार का जन्म पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा एबटाबाद में 24 जुलाई 1937 में हुआ था| पार्टिशन के दौरान उनका परिवार पाकिस्तान को छोड़कर दिल्ली आ गया था उस समय मनोज कुमार की उम्र सिर्फ 10 वर्ष थी| उनका परिवार किंग्स्वे कैंप दिल्ली में एक शरणार्थी के तौर पर रहा करता था| जो जगह बाद में दिल्ली के ओल्ड राजेंद्र नगर एरिया के नाम से पहचाना जाने लगा| मनोज कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय के ‘हिंदू कॉलेज’ से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद 1957 में बनी फिल्म फैशन’ के जरिए हिंदी सिनेमा में अपने करियर का शुरुआत किए|

बताते चले की मनोज कुमार कई तरह के प्रतिभाओं से सम्पन्न कलाकार हैं। वो न सिर्फ बॉलीवुड फ़िल्म जगत के एक दिग्गज अभिनेता हैं बल्कि डायरेक्टर और लेखक भी हैं। ऐसे वक्त में जब फिल्मों में सिर्फ रोमांस और प्रेम कहानीयों का बोलबाला हुआ करता था तब मनोज कुमार ऐसे कलाकार बनकर उभरे जिन्होंने बॉलीवुड में देशभक्ति का तड़का लगाया। उन्होंने हिंदी सिनेमा में देशभक्ति पर आधारित कई ऐसी फिल्में दिया जो दर्शकों पर अपना एक अलग छाप छोड़ गई| इसके बाद 1960 में आई फिल्म ‘कांच की गुडिया’ में उन्होंने लीड रोल निभाया।

बता दे, फिल्म ‘कांच की गुडिया’ में में लीड रोल में काम करने के बाद मनोज कुमार बॉलीवुड फिल्म इंड्रस्ट्री में अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब रहे। इसके बाद उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और आगे चलकर
कई लगातार फिल्में दिया| जिनमें फ़िल्म हरियाली और रास्ता’  ‘वो कौन थी?’, ‘दो बदन’  हनीमून’, ‘अपना बना के देखो’, ‘नकली नवाब’, ‘पत्थर के सनम’, ‘साजन’, ‘सावन की घटा’ और इनके अलावा सामाजिक परिवेश से जुड़ी फिल्मों में शादी’, ‘गृहस्थी’, ‘अपने हुए पराये’, ‘पहचान’ ‘आदमी’ गुमनाम’, ‘अनीता’ और क्रांतिजैसी फिल्में शामिल हैं|


उनका नाम हरिकिशन गिरी से मनोज कुमार कैसे हो गया?

बता दे कि मनोज कुमार अभिनेता दिलीप कुमार से काफी प्रभावित थे। उन्होंने बचपन में दिलीप कुमार की सुपरहिट फिल्म शबनम’ देखी थी जिसमे दिलीप कुमार ने मनोज कुमार नाम से किरदार निभाया था। मनोज उस किरदार से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने अपना नाम हरिकिशन गिरी से बदलकर मनोज कुमार रख लिया।

अभिनेता मनोज कुमार से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बाते…

-1965 में तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के कहने पर जय जवान, जय किसान पर आधारित उन्होने फिल्म उपकार’ बनाई।
-मनोज कुमार की सबसे बड़ी फिल्में – हरियाली और रास्ता’, ‘वो कौन थी’, ‘शहीद’, ‘हिमालय की गोद में’, ‘गुमनाम’, ‘पत्थर के सनम’ , ‘उपकार’, ‘रोटी , कपड़ा और मकान’, ‘क्रांति।
-हिंदी सिनेमा जगत में मनोज कुमार ने 50 साल के करियर में महज 40 से ज्यादा फिल्में कीं।
-मनोज कुमार को देशभक्ति फिल्मों के लिए भारत कुमार कहा जाता है।
– भारत सरकार ने उन्हें 1992 में पद्म श्री अवार्ड से नवाजा।
-7 फिल्मों में फिल्मफेयर अवार्ड जीता।

Facebook Comments