ममता का हिन्दू कार्ड, मुहर्रम के जुलूस में हथियारों के प्रदर्शन पर रोक, दुर्गा पूजा पर सभी पंडालों को दस हजार रुपए…!

0
307

पश्चिम बंगाल: आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र सभी राजनीतिक पार्टियां इनदिनों अपना-अपना वोट बैंक साधने में लगी लगी हुई हैं| मतदाताओं को अपने तरफ लाने के लिए सभी राजनीतिक दल अलग-अलग हथकंडे अपना रही हैं| इसी जंग में हिंदू वोटों को साधने में लगी तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सबसे बड़ा हिंदू कार्ड खेला है। दरअसल ममता बनर्जी ने हिन्दुओं को लुभाने के लिए पिछले 2 दिन में दो बड़े फैसले लिए हैं। पहले दुर्गा पूजा पंडालों को 10-10 हजार रुपये की मदद का ऐलान किया और फिर मुसलमानों के खास पर्व मुहर्रम के जुलूस में तलवारबाजी हथियारों के प्रदर्शन पर रोक लगाने को कहा है।

सीएम ममता बनर्जी ने कहा है कि ‘दुर्गा पूजा में छोटे पंडाल हों या बड़े पंडाल, सभी पंडालों को दस-दस हजार रुपए दिए जाएंगे। इसके लिए ममता सरकार ने 28 करोड़ रुपये का बजट अलग से रखा है। इसके अलावा दुर्गा पूजा के दौरान ममता बनर्जी की सरकार पूजा कमिटियों से लाइसेंस फीस नहीं लेगी और पूजा पंडालों के लिए बिजली के रेट कम किए जाएंगे। हालांकि राज्य में विपक्षी पार्टी भाजपा और सीपीएम ने ममता सरकार के इस कदम को वोट बैंक की राजनीति करार देते हुए सीएम ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि वो वोटों के लिए कुछ भी कर सकती हैं।

गौरतलब हैं कि ममता बनर्जी पर मुस्लिम तुष्टीकरण का आरोप काफी लंबे समय से लगता रहा है। 2019 के लोकसभा चुनाव में ये आरोप उल्टे ना पड़ जाएं इसलिए ममता सरकार ने मुहर्रम पर सख्ती की है। कल बंगाल के बीरभूम में टीएमसी के सैकड़ों नेताओं ने हिस्सा लिया और ये तय किया गया कि शहर में मुहर्रम के दौरान लाठी और तलवारों के साथ प्रदर्शन नहीं होगा। बंगाल में पिछले कुछ सालों में भारतीय जनता पार्टी का जनाधार सबसे तेजी से बढ़ा है ऐसे में भाजपा को जवाब देने के लिए ममता बनर्जी हिंदुओं को लुभाने के लिए मुहर्रम के जुलूस में तलवारबाजी हथियारों के प्रदर्शन पर रोक और दुर्गा पूजा में सभी पंडालों को दस-दस हजार रुपए देकर हिंदू कार्ड खेला है।

Facebook Comments