भारत-रूस: मोदी-पुतिन एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम सौदे पर मुहर लगाएंगे आज

0
59

नई दिल्ली: रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन दो दिवसीय दौरे पर दिल्ली पहुंचे हैं। रूसी राष्ट्रपति आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ 19वीं द्विपक्षीय वार्षिक शिखर बैठक में शिरकत करेंगे। प्रतिबंध लगाए जाने की अमेरिकी धमकी और दबाव के बावजूद भारत रूस से 5 अरब डॉलर के एस-400 ट्रायम्फ एयर डिफेंस सिस्टम का सौदा करेगा। इसके अलावा दोनों देश अंतरिक्ष, रक्षा और ऊर्जा समेत कई और अन्य बड़े समझौते भी करेंगे।

बता दे कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन का आईजीआई एयरपोर्ट पर स्वागत किया। रूसी राष्ट्रपति के साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रशियन और अंग्रेजी में ट्वीट कर पुतिन का स्वागत किया है उन्होंने लिखा है कि राष्ट्रपति पुतिन, आपका भारत में स्वागत है। भारत-रूस की दोस्ती को और प्रगाढ़ करने वाली मंत्रणा को लेकर आशान्वित।

गौरतलब है कि रूसी रक्षा कंपनियों के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों को देखते हुए ब्लादिमीर पुतिन और पीएम मोदी द्विपक्षीय रक्षा सहयोग की समीक्षा करेंगे। इसमें अमेरिकी प्रतिबंध के चलते ईरान से होने वाले कच्चे तेल के आयात पर असर का मुद्दा भी शामिल है।

बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सरकारी आवास पर बृहस्पतिवार रात को रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के लिए डिनर की मेजबानी की। वन-ऑन-वन डिनर के दौरान दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय सहयोग और रणनीतिक मुद्दों समेत कई मसलों पर चर्चा भी किया। इससे पहले एयरपोर्ट से सीधे प्रधानमंत्री आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पहुंचने पर रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन का पीएम मोदी ने स्वागत किया। हालांकि प्रधानमंत्री मोदी इससे पहले इज़रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू समेत कई वैश्विक नेताओं के लिए निजी डिनर की मेजबानी कर चुके हैं।

इस वार्ता के जरिए कई संदेश दे सकते है पुतिन-मोदी

रूस के राष्ट्रपति पुतिन और पीएम मोदी के बीच होने वाली इस द्विपक्षीय वार्ता के जरिए भारत यह संदेश देगा कि अमेरिका से बढ़ती नजदीकी के बावजूद उसके लिए रूस की अहमियत कम नहीं हुई है। गौरतलब है कि अमेरिका से बढ़ती नजदीकी के वजह से कुछ वैश्विक मुद्दों पर भारत को रूस का पहले की तरह खुला समर्थन हासिल नहीं हुआ था। इस करार के बाद अब दोनों देशों की दूरी कुछ खत्म होगी। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक एंटी डिफेंस सिस्टम सौदे के अलावा दोनों देश इस वार्ता के जरिए रक्षा के क्षेत्र में भी कई दूसरी योजनाओं का खाका खींचेंगे।

Facebook Comments