किस को कितना मिलना चाहिये दहेज़ बताती है वेबसाइट, बंद कराने की उठ रही है मांग

0
150
किस को कितना मिलना चाहिये दहेज़ बताती है वेबसाइट, बंद कराने की उठ रही है मांग

जी हाँ 21वीं सदी के इस दौर में जहाँ दहेज़ के लेन-देन को लेकर कानून बन रहें हैं वही एक ऐसी वेबसाइट सामने आयी है जो यह कैलकुलेट करती है कि आपको कितना दहेज़ मिलना चाहिये. हमारे देश में दहेज़ प्रथा को खत्म करने के लिये लगातार प्रदर्शन और गतिरोध चलते रहते हैं. ऐसी परिस्थितियों में एक ऐसी वेबसाइट का लॉन्च हो जाना दुखद है जो दहेज का रेट बताये. दरअसल दहेज कैलकुलेट करने वाली यह वेबसाइट बता रही है कि किस लड़के को कितना दहेज मिलना चाहिए।

दिग्गजों ने किया वेबसाइट का विरोध-

मेनका गांधी

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने इस वेबसाइट को जल्द से जल्द हटाने की मांग की है। उन्होंने इस वेबसाइट के संबंध में सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद जी को एक लिखित विज्ञप्ति भी प्रेषित की है। मेनका गांधी ने कहा कि www.dowrycalculator.com नाम की यह वेबसाइट बंद होनी चाहिए और इसे चलाने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई भी होनी चाहिए। मेनका का साथ देते हुए कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी इस वेबसाइट को लेकर प्राइम मिनिस्टर ऑफिस में शिकायत की है। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा है कि यह काफी शर्मनाक है कि देश में ऐसी वेबसाइट चल रही हैं। इसे तुरंत बंद कराना चाहिए और इसके खिलाफ एक्शन भी लेना चाहिए।

उम्र, जाति, रोजगार और कमाई के आधार पर दहेज बताया जाता है –

यह वेबसाइट लड़के की उम्र , जाति , रोजगार , आय , शिक्षा और पिता के व्यवसाय के आधार पर दहेज़ बता रही है. सबसे अजीब बात तो यह है कि यह वेबसाइट बेरोजगार लड़कों को 15 लाख रुपये तक के दहेज़ के लायक दर्शा रही है. इस वेबसाइट में केवल ब्राह्मण, कायस्थ, भूमिहार, बनिया, रेड्डी, नायर, क्षत्रिय जैसे 17 जाति सूचीबद्ध हैं। डिजिटल इंडिया की मांग करने वाली जनता खुद डिजिटलाईजेशन का दुरूपयोग कर जाती है. यह हमारे समाज की दोगली प्रवृत्ति का नमूना है.

Facebook Comments